TMC नेता सुवेंदु अधिकारी ने छोड़ी विधायकी, अमित शाह के सामने बीजेपी में शामिल होने की अटकलें

सुवेंदु अधिकारी ने हाल ही में ममता बनर्जी के मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया था, अधिकारी ममता सरकार में परिवहन मंत्री थे

Updated: Dec 16, 2020, 11:34 PM IST

TMC नेता सुवेंदु अधिकारी ने छोड़ी विधायकी, अमित शाह के सामने बीजेपी में शामिल होने की अटकलें
Photo Courtesy : Outlook India

कोलकाता। ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस के नेता सुवेंदु अधिकारी ने आखिरकार विधायक के पद से इस्तीफा दे दिया है। सुवेंदु अधिकारी को विधायकी पद छोड़ने की इतनी जल्दी थी कि उन्होंने स्पीकर के मौजूद होने पर विधानसभा सचिवालय को ही अपना त्याग पत्र सौंप दिया। अधिकारी के विधायकी छोड़ने के बाद इस बात की अटकलें तेज़ हो गई हैं कि वे किसी भी समय तृणमूल कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा दे सकते हैं। चर्चा यह भी है कि सुवेंदु अधिकारी गृह मंत्री अमित शाह के पश्चिम बंगाल दौरे के समय बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।  

यह भी पढ़ें : TMC से आए नेताओं को बड़े पद मिलने से पश्चिम बंगाल बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष नाराज, बगावत पर उतरे

अधिकारी ने 27 नवंबर को ममता सरकार के परिवहन मंत्री के पद से भी इस्तीफ़ा दे दिया था। तभी से ऐसी अटकलें शुरू हो गई थीं कि सुवेंदु किसी भी समय तृणमूल कांग्रेस का साथ छोड़ सकते हैं। हालांकि अब भी सुवेंदु पूरी तरह से पार्टी से बाहर नहीं हुए हैं, लेकिन माना जा रहा कि अब इसका औपचारिक ऐलान होना ही बाकी रह गया है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो अधिकारी जल्द ही बीजेपी का दामन थाम सकते हैं। कहा जा रहा है कि वे गृह मंत्री अमित शाह के पश्चिम बंगाल दौरे का इंतज़ार कर रहे हैं। अटकलें हैं कि अधिकारी मिदनापुर में ही बीजेपी की सदस्यता ग्रहण करेंगे। बीजेपी लंबे समय से सुवेंदु अधिकारी को अपने पाले में करने की कोशिश कर रही है। सुवेंदु अधिकारी को केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जेड प्लस सिक्योरिटी भी दी गई है। 

यह भी पढ़ें : अधिकारी के बीजेपी में शामिल होने की चर्चा, ममता के मंत्रिमंडल से दे चुके हैं इस्तीफ़ा

अधिकारी का बीजेपी में जाना ममता के लिए कितना बड़ा झटका होगा 
सुवेंदु अधिकारी के बीजेपी में जाना ममता बनर्जी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। पश्चिम बंगाल की राजनीति को समझने वालों का अनुमान है कि सुवेंदु अधिकारी राज्य के 6 जिलों की 40 विधानसभा सीटों पर कुछ न कुछ असर डाल सकते हैं। ऐसे में विधानसभा चुनाव से ठीक पहले उनका पाला बदलना टीएमसी के लिए वाकई नुकसानदेह साबित हो सकता है।