शुतुरमुर्ग भले ही रेत में सिर नहीं छुपाते, लेकिन भारत सरकार छिपा रही है, भारत के खंडन पर ऑस्ट्रेलियाई अख़बार का जवाब

भारतीय दूतावास ने द ऑस्ट्रेलियन अख़बार को उसकी एक खबर को लेकर खंडन भेजा था, जिसमें अख़बार ने भारत में कोरोना से बेकाबू होते हालात के लिए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ज़िम्मेदार ठहराया, अब उसी अख़बार ने श्मशान में जलती लाशों की तस्वीर छाप दी है

Updated: Apr 29, 2021, 04:17 PM IST

शुतुरमुर्ग भले ही रेत में सिर नहीं छुपाते, लेकिन भारत सरकार छिपा रही है, भारत के खंडन पर ऑस्ट्रेलियाई अख़बार का जवाब
Photo Courtesy: Business Today

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी को भारत में फैले कोरोना का ज़िम्मेदार ठहराए जाने पर भारतीय दूतावास द्वारा भेजे गए खंडन का द ऑस्ट्रेलियन अख़बार ने जवाब दिया है। द ऑस्ट्रेलियन ने अपने अख़बार में भारत के श्मशान घाट की एक तस्वीर छाप दी है। तस्वीर को अख़बार में जगह देते हुए द ऑस्ट्रेलियन प्रधानमंत्री मोदी की सरकार पर तंज कसा है। अख़बार ने कहा है कि भले ही शुतुरमुर्ग रेत में अपना सिर नहीं गड़ाते लेकिन भारत सरकार गड़ा रही है। 

यह भी पढ़ें : बेंगलुरु में कोरोना के तीन हज़ार मरीज़ हुए लापता, खुद राजस्व मंत्री ने किया दावा

ऑस्ट्रेलियन अख़बार ने अपनी रिपोर्ट में भारत के श्मशान घाट की तस्वीर छापी है। जिसमें एक व्यक्ति हाथ जोड़े खड़ा है। और उसकी दोनों तरफ चिताएं जलती दिख रही हैं। इसके साथ ही तस्वीर के ऊपर द ऑस्ट्रेलियन ने अपनी पहली रिपोर्ट और भारतीय दूतावास के खंडन को भी छापा है। 

दरअसल हाल में द ऑस्ट्रेलियन अख़बार ने प्रधानमंत्री मोदी को भारत में कोरोना से बेकाबू होते हालात के लिए ज़िम्मेदार ठहराया था। अख़बार ने कहा था कि भारत को लॉकडाउन से निकालकर प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना की आग में झोंक दिया। द ऑस्ट्रेलियन अख़बार ने बंगाल में प्रधानमंत्री मोदी की रैली और कुंभ मेले का भी ज़िक्र किया था। इसके साथ ही अख़बार ने यह भी कहा था कि प्रधानमंत्री मोदी ने एक्सपर्ट्स की सलाह को नज़रअंदाज़ कर दिया। 

यह भी पढ़ें : भारत में स्वास्थ्य सुविधाएं हैं सीमित इसलिए जल्द ही स्वदेश लौटें अमेरिकी नागरिक, अमेरिकी सरकार ने अपने नागरिकों को जल्द भारत छोड़ने की दी सलाह

द ऑस्ट्रेलियन की इस रिपोर्ट पर भारतीय दूतावास ने अपनी आपत्ति ज़ाहिर की थी। भारतीय दूतावास ने द ऑस्ट्रेलियन को खंडन भेजते हुए कहा था कि समय पर उठाए गए कदमों की वजह से ही भारत में लोगों की ज़िंदगियां बच सकी। भारतीय दूतावास ने द ऑस्ट्रलियन की रिपोर्ट को निंदनीय बताया था। लेकिन इसके जवाब में द ऑस्ट्रेलियन ने भारत के श्मशान घाट की तस्वीर बयां कर दी है। जो कि भारत के श्मशान घाटों पर लगी कतार को बयां कर रही है।