UP में बिजली विभाग का कारनामा, झोपड़ी में रहने वाले को थमाया 19 करोड़ का बिल, सदमे में परिवार

देवरिया में एक मजदूर के घर बिजली विभाग ने डाक टिकट से भेजा बिल, 19 करोड़ 19 लाख 9 हज़ार 993 रुपये का बिल देख उड़े परिजनों के होश, घर में खाना बनना भी हुआ बंद

Updated: Oct 30, 2021, 11:58 AM IST

UP में बिजली विभाग का कारनामा, झोपड़ी में रहने वाले को थमाया 19 करोड़ का बिल, सदमे में परिवार
Photo Courtesy: AajTak

देवरिया। उत्तर प्रदेश के देवरिया में बिजली विभाग का एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां बिजली विभाग ने झोपड़ी में रहने वाले एक मजदूर परिवार को 19 करोड़ से ज्यादा का बिल थमाया है। बिल की रकम देखकर परिवार के लोग सदमे में हैं, लेकिन हैरानी की बात ये है कि शिकायत के बाद भी कोई अधिकारी सुनने को तैयार नहीं है।

मामला देवरिया जिले के सदर कोतवाली थाना एरिया अंतर्गत मलकौली गांव का है। यहां रामनगीना मेहनत मजदूरी कर के परिवार चलाते हैं। घर के नाम पर झोपड़ीनुमा दो कमरे हैं, जिसमें दंपत्ति अपने दो बेटे व तीन बेटियों साथ रहते हैं। तकरीबन सात साल पहले रामनगीना ने 1 किलो वाट का इलेक्ट्रिसिटी कनेक्शन लिया था। वे तीन बार बिल भी जमा किए हैं, लेकिन अब बिजली विभाग के कारनामों में उन्हें बुरी तरह डरा दिया है।

यह भी पढ़ें: आर्थर रोड जेल से रिहा हुए आर्यन खान, 28 दिनों बाद लौटे मन्नत

बिजली विभाग ने डाक के माध्यम से 19 करोड़ रुपए से ज्यादा का बकाया नोटिस उनके यहां भेजा है।  इसके बाद से रामनगीना सदमे में हैं। उनकी पत्नी सावित्री देवी कहती हैं की जब से नोटिस मिला है तब से घर में चूल्हा नहीं जल रहा है। घर के लोगों ने टेंशन में खाना पानी छोड़ दिया है। इतना ही नहीं बिल का शिकायत करने पर विभाग के अधिकारी सुनने को तैयार नहीं हैं। 

बिजली विभाग ने नोटिस में यह भी धमकी दिया है कि बकाया नहीं चुकाने पर राजस्व के लिए भूमि पर कब्जा किया जाएगा। मामले पर विभाग के अधिकारियों से पूछे जाने पर वे एक दूसरे पर ठीकरा फोड़ने में जुट गए हैं। विभाग के इंजीनीर्स वहां के  एसडीओ यानी उप खण्ड अधिकारी को इसके लिए जिम्मेदार बता रहे हैं। कांग्रेस महासचिव प्रियंका ने इसे स्मार्ट मीटरों का लूट बताया है। प्रियंका ने कहा है कि कांग्रेस की सरकार आएगी तो इस लूट को खत्म किया जाएगा।