जय शाह होंगे एशियन क्रिकेट काउंसिल के सबसे कम उम्र प्रेसिडेंट

इससे पहले एशियन क्रिकेट काउंसिल की ज़िम्मेदारी बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के प्रेसिडेंट नज़मुल हुसैन संभाल रहे थे

Updated: Jan 30, 2021, 09:26 PM IST

जय शाह होंगे एशियन क्रिकेट काउंसिल के सबसे कम उम्र प्रेसिडेंट
Photo Courtesy: The Logical Indian

नई दिल्ली/मुंबई। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के सचिव जय शाह एशियन क्रिकेट काउंसिल के नए प्रेसिडेंट बनाए गए हैं। शनिवार को बीसीसीआई के कोषाध्यक्ष अरुण सिंह धूमल ने जय शाह की नियुक्ति के बारे में जानकारी साझा की। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह 24 सदस्यों वाली एशियन क्रिकेट काउंसिल के सबसे युवा प्रेसिडेंट होंगे।

अरुण कुमार धूमल ने शनिवार शाम को अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ' एशियन क्रिकेट काउंसिल के प्रेसिडेंट के पद पर नियुक्ति के लिए जय शाह को बधाई। मुझे पूरी उम्मीद है कि एशियन क्रिकेट काउंसिल (ACC) आपके नेतृत्व में नए कीर्तमान स्थापित करेगा। और साथ ही एशियन रीजन के तमाम क्रिकेटरों को इसका फायदा मिलेगा। आपके सफल कार्यकाल के लिए मेरी तरफ से अग्रिम शुभकामनाएं।'

जय शाह से पहले एशियन क्रिकेट काउंसिल की ज़िम्मेदारी बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के चीफ नज़मुल हुसैन संभाल रहे थे। जय शाह काउंसिल के 28वें अध्यक्ष होंगे। इसके साथ ही जय शाह एशियन क्रिकेट काउंसिल के सातवें भारतीय अध्यक्ष होंगे। 

एशियन क्रिकेट काउंसिल की स्थापना 1983 में हुई थी। इसके सबसे पहले प्रेसिडेंट एनकेपी साल्वे (1983-85) नियुक्त हुए थे। इसके बाद 1993 में दिवंगत कांग्रेस नेता माधवराव सिंधिया (बीजेपी नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के पिता) एशियन क्रिकेट काउंसिल के दूसरे भारतीय अध्यक्ष नियुक्त हुए थे। हालांकि माधवराव सिंधिया ज़्यादा दिन तक इस पद पर नहीं रह पाए, लिहाज़ा अगले चार वर्षों तक आईएस बिंद्रा एशियन क्रिकेट काउंसिल के प्रेसिडेंट के पद पर रहे। इसके बाद बीसीसीआई के पूर्व अध्यक्ष जगमोहन डालमिया (2004-05) एशियन क्रिकेट काउंसिल के चौथे भारतीय अध्यक्ष बने। डालमिया के बाद तत्कालीन बीसीसीआई प्रेसिडेंट शरद पवार(2005-06) एशियन क्रिकेट काउंसिल के पांचवें भारतीय अध्यक्ष बने। पवार के बाद एन श्रीनिवासन (2012-14) 6वें भारतीय अध्यक्ष बने।

एशियन क्रिकेट काउंसिल में क्रिकेट खेलने वाले एशियाई देशों को दो तरह की सदस्यता दी जाती है। फुल मेंबर स्टेटस ICC के पूर्ण सदस्यों और एसोसिएट मेंबर्स को दिया जाता है। जो देश ICC के सदस्य नहीं होते उन्हें एशियन क्रिकेट काउंसिल में एसोसिएट मेंबरशिप दी जाती है। फिजी, जापान और पापुआ न्यू गिनी पहले एशियन क्रिकेट काउंसिल के सदस्य हुआ करते थे। बाद में ये देश ईस्ट एशिया पैसिफिक रीजनल काउंसिल के सदस्य बन गए। इसकी स्थापना 1996 में हुई थी।