ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं होने के कारण बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में 9 लोगों की मौत, अस्पताल में भर्ती 13 बच्चों को किया गया शिफ्ट

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज प्रबंधन का ऑक्सीजन की कमी से लोगों की मौत के दावे से इंकार, गुजरात से होती है लिक्विड ऑक्सीजन की सप्लाई, दो दिन से ऑक्सीजन सिलेंडर से काम चला रहा है अस्पताल

Publish: Apr 08, 2021, 08:59 AM IST

ऑक्सीजन की सप्लाई नहीं होने के कारण बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में 9 लोगों की मौत, अस्पताल में भर्ती 13 बच्चों को किया गया शिफ्ट
Photo Courtesy: Naidunia

सागर। सागर स्थित बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में लिक्विड ऑक्सीजन की सप्लाई बंद होने के कारण अब तक 9 लोगों की मौत हो चुकी है। इस बात का दावा एक स्थानीय न्यूज़ चैनल ने अपनी एक रिपोर्ट में किया है। रिपोर्ट के मुताबिक पिछले दो दिनों से बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की सप्लाई बंद है। जिस वजह से अस्पताल में 9 लोग अपनी जान गंवा बैठे हैं। 

यह भी पढ़ें : मध्य प्रदेश में रेमेडेसिविर इंजेक्शन को लेकर हाहाकार, सरकार ने कहा आपात स्थिति में ही मिलेगा इंजेक्शन

रिपोर्ट के मुताबिक अस्पताल के आईसीयू वार्ड में पांच मरीजों की मौत हो गई है। जबकि दूसरे वार्डों में चार मरीजों को मिलाकर कुल 9 लोगों की ऑक्सीजन की कमी के कारण मौत हो गई है। हालांकि मेडिकल कॉलेज के डीन आरएस वर्मा इन दावों को सिरे से खारिज कर रहे हैं। वर्मा का कहना है कि अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन की कमी है जिसके बदले ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था की जा रही है। डीन का कहना है कि अभी अस्पताल प्रबंधन के पास वैकल्पिक तौर पर छोटे सिलेंडर मौजूद हैं। 

यह भी पढ़ें : प्रदेश के सभी शहरों में नाइट कर्फ़्यू और संडे लॉकडाउन, शनिवार और रविवार की सरकारी छुट्टी

दूसरी तरफ बुधवार को ही यह खबर आई है कि बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन का सिलेंडर फट गया। जिस वजह से मरीजों की जान पर बन आई। अस्पताल में भर्ती 13 नवजात बच्चों को सागर के ज़िला अस्पताल में भर्ती करना पड़ा। 

यह भी पढ़ें : बीजेपी में जाने के बाद सिंधिया ने नहीं कराया किसानों का कर्जा माफ, कांग्रेस नेता हार्दिक पटेल ने साधा सिंधिया पर निशाना

दरअसल अस्पताल को गुजरात से लिक्विड ऑक्सीजन की सप्लाई की जाती है। लेकिन समय पर भुगतान न होने के कारण लिक्विड ऑक्सीजन मुहैया कराने वाली कंपनी ने अस्पताल को दी जाने वाली सप्लाई को बंद कर दिया है। इसके बाद अस्पताल प्रबंधन ऑक्सीजन सिलेंडर से काम चला रहा था। लेकिन बुधवार को पाइप का नोजल भी फट गया। जिस वजह से पूरे अस्पताल में हड़कंप की स्थिति मच गई।