लॉकडाउन के पक्ष में नहीं सीएम शिवराज, कहा, बाज़ार बंद करने से आर्थिक नुक़सान बढ़ेगा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा व्यापारियों पर प्रशासन सख्ती ना करे बल्कि कोरोना गाइडलाइंस का पालन करने के लिए प्रेरित करे

Updated: Nov 22, 2020, 05:12 PM IST

लॉकडाउन के पक्ष में नहीं सीएम शिवराज, कहा, बाज़ार बंद करने से आर्थिक नुक़सान बढ़ेगा
Photo Courtesy: India TV

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने समीक्षा बैठक में भी माना है कि राज्य के 9 जिलों में कोरोना के संक्रमण बढ़ने की रफ्तार काफी तेज़ हो चुकी है। इसके बावजूद शिवराज सिंह चौहान लॉकडाउन करने या बड़े पैमाने पर बाज़ार बंद करने के पक्ष में नहीं हैं। उनका कहना है कि अगर बाजार बंद कर दिए जाएंगे तो इससे आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित होंगी।

शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में कोरोना की स्थिति पर करीब एक घंटे तक समीक्षा बैठक की। जिसमें सीएम ने कहा कि प्रशासन सख्ती ना बरते बल्कि अपने स्तर पर व्यापारियों से बाजार बंद करने की अपील करें। इसी के साथ कोरोना गाइडसाइंस का पालन करने के लिए उन्हें प्रेरित करे। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की स्थिति पर अगली समीक्षा बैठक 24 नवंबर को बुलाई है।

पांच शहरों में लगाया गया है कर्फ्यू

कोरोना के फैलाव को कम करने के मकसद से राज्य सरकार ने पांच जिलों में नाइट कर्फ्यू लगाया है। इनमें इंदौर, भोपाल, ग्वालियर, विदिशा और रतलाम जिले शामिल हैं। इन जिलों में रात 10 बजे से सुबह छह बजे कर कर्फ्यू रहेगा। इस दौरान आवश्यक सेवाओं और फैक्टरी कर्मचारियों को आने-जाने की अनुमति रहेगी। कर्फ्यू के पहले दिन जिलों में सख्ती दिखाई गई। बता दें, राज्य सरकार ने उन शहरों में नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया है जहां कोरोना संक्रमण की दर पांच फीसदी से ज्यादा है। वहीं अगर किसी जिल में नाइट कर्फ्यू लगाने की जरूरत दिखती है तो इसे लेकर अंतिम फैसला डीएम को करने का अधिकार दिया गया है।