MP: बेटी बनी मां की हत्यारी, पैसों के लालच में पत्थर से कुचला सिर

भागीरति झरबडे ने कुछ समय पहले गांव की जमीन 5 लाख 82 हजार रुपए में बेची थी। वह ये पैसे अपनी दोनों बेटियों के बीच में बराबर बांटना चाहती थी। इसी बात को लेकर हुए विवाद में ऊषा ने एक बड़े पत्थर से अपनी मां का सिर कुचल कर हत्या कर दी।

Updated: Jun 11, 2022, 10:24 AM IST

MP: बेटी बनी मां की हत्यारी, पैसों के लालच में पत्थर से कुचला सिर
Image Courtesy : ABP News

बैतूल। ग्रंथों में कहा गया है कि माता और मातृभूमि स्वर्ग से भी बढ़कर है। लेकिन चंद पैसों के लालच में एक बेटी ने जन्म देनी वाली मां की पत्थर से कुचलकर निर्ममता से हत्या कर दी। बैतूल में पाथाखेड़ा गांव की रहने वाली 60 साल की भागीरति झरबड़े की हत्या छोटी बेटी ऊषा और दामाद करन ने कर दी। 
पाथाखेड़ा निवासी भागीरति झरबडे ने कुछ समय पहले जमीन 5 लाख 82 हजार रुपए में बेची थी। जिसे उसने अपनी छोटी बेटी ऊषा के बैंक खाते में जमा करा दिया। भागीरति ये पैसे अपनी दोनों बेटियों के बीच में बराबर बांटना चाहती थी। इसी बात को लेकर भागीरथी की अपनी छोटी बेटी और दामाद से कहासुनी हो गई और ऊषा ने एक बड़े पत्थर से अपनी मां का सिर कुचल कर हत्या कर दी। हत्या के बाद उषा और करन ने वृद्ध महिला के शव को पॉलिथीन में भरकर रानीपुर के जंगलों में फेक दिया।

यह भी पढ़ें: पंचायत चुनाव 2022: 4 लाख से ज्यादा उम्मीदवारों चुनाव चिन्ह आवंटित, तलवार से पिचकारी तक ऐसे हैं सिंबल

इसके बाद आरोपियों ने नर्मदापुरम पुलिस थाने में जाकर गुमसुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी। जब भागीरति की बड़ी बेटी रेखा ने पूछा कि अम्मा कहा है। उषा ने कहा कि हम सभी नर्मदा स्नान के लिए गए थे और अम्मा का नहाते समय पैर फिसल गया और वो नर्मदा जी में बह गई।
दरअसल बैतूल परासिया राजकीय मार्ग के पास बंजारी माई गांव के जंगलों में एक बुजुर्ग महिला का शव मिला था। जिसके बाद पुलिस ने शव की शिनाख्त की तो प्रथम दृष्टि हत्या का मामला नजर आया। पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की तब दोनों आरोपियों ने अपना अपराध कुबूल कर लिया।
पुलिस अधीक्षक सिमाला प्रसाद ने बताया कि भागीरति छोटी बेटी ऊषा और दामाद करन के पास बीते एक महीने से रह रही है और कुछ दिन पहले ही गांव की जमीन बेचने पर भागीरति को 5 लाख 82 हजार रुपए मिले थे जिसे उसने अपनी छोटी बेटी ऊषा के बैंक खाते में जमा करा दिए थे। भागीरति की दो बेटियां हैं इसलिए तय किया कि वह ये पैसा दोनों बेटियों में बराबर बांट देगी। इसी बात को लेकर दोनों में विवाद हो गया और ऊषा ने बड़ा पत्थर उठाकर अपनी मां के सिर पर मारा जिससे मौके पर ही भागीरति की मौत हो गई।