रक्षा मंत्रालय ने आम लोगों के लिए खोला आर्मी हॉस्पिटल में इलाज का द्वार, कोरोना मरीज़ करा सकेंगे इलाज

सेना के अस्पतालों में अब आम आदमी भी करा सकेंगे इलाज, रक्षा मंत्री ने तीनों सेना प्रमुखों और रक्षा सचिव के साथ बैठक के बाद लिया फैसला

Updated: Apr 20, 2021, 09:20 PM IST

रक्षा मंत्रालय ने आम लोगों के लिए खोला आर्मी हॉस्पिटल में इलाज का द्वार, कोरोना मरीज़ करा सकेंगे इलाज
Photo courtesy: DNA India

नई दिल्ली। देशभर में कोरोना संकट को देखते हुए केंद्रीय रक्षा मंत्रालय ने मिलिट्री हॉस्पिटल्स को आम नागरिकों के लिए खोल दिया है। रक्षा मंत्रालय के इस फैसले के बाद अब वैसे लोग भी मिलिट्री हॉस्पिटल्स में अपना कोरोना इलाज करा सकेंगे जिनकी पृष्ठभूमि सेना से जुड़ी नहीं है। देश में सेना के कुल 67 अस्पताल हैं, जहां कोरोना संक्रमितों का इलाज किया जा रहा है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज तीनों सेना के प्रमुखों और रक्षा सचिव के साथ बैठक की थी। बैठक के बाद रक्षा मंत्रालय ने सेना के सारे अस्पतालों में आम लोगों को भर्ती करने का निर्देश जारी किया है। रक्षा मंत्रालय का यह निर्देश सभी अस्पतालों को भेज दिया गया है। इन अस्पतालों में जिला प्रशासन या कोविड-19 नोडल अधिकारी लोगों को भर्ती करा सकते हैं।

रक्षा मंत्रालय ने इस जारी आदेश में कहा है कि, 'कोरोना महामारी के बढ़ते फैलाव को देखते हुए यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि देशभर में कैंटोनमेंट बोर्ड की ओर से मैनेज किए जाने वाले सभी हॉस्पिटल्स में हर इंसान को चाहे वह कैंट का निवासी न भी हो तो भी उसे जरूरी चिकित्सीय सहायता प्रदान की जाए"

यह भी पढ़ें: Covid-19 पीड़ितों के मृत्यु प्रमाण पत्र पर प्रधानमंत्री मोदी की तस्वीर लगाने की उठी मांग

 इससे पहले, कल ही DRDO यानी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन ने भी राजधानी दिल्ली स्थित अपने अस्पताल को आम लोगों के लिए खोलने का ऐलान किया था। डीआरडीओ का यह अस्पताल दिल्ली एयरपोर्ट के समीप है। पिछले साल भी कोरोना के मामले जब तेजी से बढ़ने लगे थे तो इसे कोविड-19 डेडिकेटेड अस्पताल में तब्दील कर दिया गया था, हालांकि बाद में जब कोविड मामलों में कमी आयी तो इसे बंद कर दिया गया था।