Agra Protest: आगरा में वाल्मीकि समुदाय का प्रदर्शन, पुलिस ने किया बलप्रयोग, प्रदर्शनकारियों ने फेंके पत्थर

Hathras Case: हाथरस की घटना को लेकर आगरा में सफाई कर्मचारी पिछले कई दिनों से कर रहे हैं हड़ताल, प्रदर्शन के दौरान शनिवार को पुलिस से हुई झड़प

Updated: Oct 04, 2020 03:24 AM IST

Agra Protest:  आगरा में वाल्मीकि समुदाय का प्रदर्शन, पुलिस ने किया बलप्रयोग, प्रदर्शनकारियों ने फेंके पत्थर
Photo Courtsey : ANI

आगरा। हाथरस गैंग रेप को लेकर देश के कई राज्यों में भारी विरोध प्रदर्शन देखने को मिल रहा है। उत्तरप्रदेश के आगरा में वाल्मीकि समुदाय के लोग व सफाई कर्मचारी भी पिछले दो दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं। इसी दौरान शनिवार (03 अक्टूबर) को आगरा में पुलिस द्वारा बल प्रयोग करने के बाद माहौल तनावपूर्ण हो गया। रिपोर्ट्स के मुताबिक आक्रोशित लोगों ने सुरक्षाकर्मियों पर भी पथराव किया। 

प्राप्त जानकारी के अनुसार वाल्मीकि समुदाय के लोग प्रदेश सरकार और पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे थे। सफाईकर्मियों के प्रदर्शन को काबू में करने के लिए तैनात दंगा नियंत्रण टीम और उत्तरप्रदेश पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज किया। पुलिस ने उन्हें मौके से खदेड़ने का प्रयास किया जिसके जवाब में उग्र हो चुके प्रदर्शनकारियों ने पत्थरबाजी शुरू कर दी। खबर लिखे जाने तक इलाके का माहौल तनावपूर्ण बना हुआ था, हालांकि हिंसा रूक गई है और प्रदर्शनकारी वहां से चले गए हैं।

मामले पर आगरा के पुलिस अधीक्षक बीआर प्रमोद ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि पुलिस स्थिति पर नजर रखे हुए है। हमारी साइबर टीमें सोशल मीडिया पर किए गए आपत्तिजनक पोस्ट्स की भी जांच कर रही है। मैं सभी लोगों से अपील करता हूं कि कृपया शांति बनाए रखें।

और पढ़ें: प्रियंका और राहुल गांधी को हाथरस जाने की इजाजत, 5 लोगों को मिली पीड़िता के परिवार से मिलने की अनुमति

दरअसल, भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद ने हाथरस घटना के खिलाफ सभी सफाईकर्मियों से काम न करने और हड़ताल करने की अपील की थी। उन्होंने कहा था कि हम इनकी गंदगी तो साफ कर रहे हैं पर इनके दिमाग की गंदगी साफ नहीं हो पा रही है। चंद्रशेखर के इस आह्वान का असर आगरा में देखने को मिल रहा है जहां सड़कों पर कचरों का अंबार लगा हुआ है वहीं साफ-सफाई का कार्य पूरी तरह से ठप हो गई है।