पिटते पिता की जान बख्शने की भीख मांगती रही बच्ची, भीड़ लगवाती रही जय श्री राम के नारे

उत्तरप्रदेश के कानपुर में बजरंग दल के लोगों की गुंडागर्दी, 45 वर्षीय मुस्लिम युवक के साथ कि मारपीट, परेड करवाकर लगवाए जय श्री राम के नारे, बख्शने की मिन्नतें करती रही मासूम बेटी 

Updated: Aug 13, 2021, 09:29 AM IST

पिटते पिता की जान बख्शने की भीख मांगती रही बच्ची, भीड़ लगवाती रही जय श्री राम के नारे

कानपुर। उत्तर प्रदेश के कानपुर से एक विचलित करने वाला मामला सामने आया है। यहां बजरंग दल के लोगों ने एक मुस्लिम व्यक्ति की बेरहमी से पिटाई की। इस दौरान पीड़ित की नन्ही बच्ची वालिद के जान बख्शने की भीख मांगती रही। लेकिन भीड़ पर मासूम की गुहार का कोई असर नहीं हुआ। बल्कि इसके विपरीत लोग जय श्री राम के नारे लगाते रहे।

मामला बाइक को लेकर उत्पन्न हुए विवाद से लेकर धर्म परिवर्तन के आरोपों तक आ चुका है। बताया जा रहा है कि कानपुर के एक बस्ती में दो पड़ोसी कुरैशा और रानी के परिवार में बाइक को लेकर विवाद हुआ था। इस दौरान रानी के परिवार के खिलाफ कुरैशा ने मारपीट को लेकर एफआईआर की थी। जबकि हिंदू परिवार ने छेड़छाड़ का आरोप लगाया था। मामले ने अलग मोड़ तब ले लिया जब इसमें बजरंग दल के कार्यकर्ताओं की एंट्री हुई।

यह भी पढ़ें: राहुलमय हुआ ट्विटर: कांग्रेस नेताओं ने एकजुटता दिखाते हुए बदली डीपी, प्रियंका ने BJP का साथ देने का लगाया आरोप

नई कहानी के मुताबिक एक दलित महिला ने आरोप लगाया था कि पड़ोस में रहने वाला रिक्शा चालक उनके परिवार पर जबरन इस्लाम धर्म कुबूल करने का दबाव डाल रहा है। आरोप है कि दलित महिला के मना करने पर उसे 20 हजार रुपए देने का लालच भी दिया गया। इससे तंग आकर महिला ने क्षेत्रीय विधायक समेत बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के पास जाकर शिकायत की।

महिला की शिकायत पर बजरंग दल के कार्यकर्ताओं ने सरेआम मुस्लिम युवक को पकड़कर बेरहमी से पिटाई की। पिटाई करते हुए सड़क पर उसका जुलूस भी निकाला गया और जबरन जय श्री राम के नारे भी लगवाए गए। इस घटना का एक विचलित करने वाला वीडियो भी सामने आया है। वीडियो में देखा जा सकता है कि युवक की छोटी सी बच्ची अपने पिता से लिपटी हुई है और भीड़ से पिता की जान बख्शने की मिन्नतें कर रही हैं। मासूम के इस गुहार के बावजूद भी बजरंग दल कार्यकर्ताओं का दिल नहीं पसीजा और उन्होंने मारपीट जारी रखी।

यह भी पढ़ें: 3 हजार सैनिकों को दोबारा अफगानिस्तान भेजने का फ़ैसला, नागरिकों की सुरक्षित निकालने की क़वायद

हैरानी की बात ये है कि सूचना पाकर घटनास्थल पर पुलिस भी पहुंची। लेकिन पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई करने के बजाए पीड़ित मुस्लिम युवक को हिरासत में लिया। हद्द तो तब हो गई जब पुलिस हिरासत के दौरान भी बजरंग दल कार्यकर्ता उसे पीटने से बाज नहीं आए। बहरहाल इस घटनाक्रम को लेकर बवाल बढ़ने पर पुलिस ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कर तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। 

पुलिस की इस कार्रवाई के विरोध में बजरंग दल कार्यकर्ता डीसीपी ऑफिस तक पहुंच गए। यहां सैकड़ों बजरंग दल कार्यकर्ताओं ने डीसीपी साउथ कार्यालय का घेराव किया और जमकर नारेबाजी की। कानपुर बजरंग दल के जिला संयोजक दिलीप सिंह ने इस मामले पर कहा है कि, 'हम अपने सनातन धर्म को बचाने के लिए स्‍वयं सक्षम हैं। अगर हमारा हिंदू परिवार किसी भी प्रकार से परेशान रहेगा तो हम उसके लिए ढाल बनकर खड़े हैं। हम हिंदू समाज को आहत नहीं होने देंगे।'