कांग्रेस को आज मिलेगा नया हाईकमान, अध्यक्ष पद चुनाव की काउंटिंग आज

कांग्रेस के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है। देश की सबसे पुरानी पार्टी को आज नया अध्यक्ष मिलने जा रहा है। करीब 24 साल बाद गांधी परिवार से बाहर का अध्यक्ष होने जा रहा है।

Updated: Oct 19, 2022, 08:44 AM IST

कांग्रेस को आज मिलेगा नया हाईकमान, अध्यक्ष पद चुनाव की काउंटिंग आज

नई दिल्ली। देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को आज नया अध्यक्ष मिलने जा रहा है। कांग्रेस पार्टी के लिए आज का दिन ऐतिहासिक है। करीब 24 साल बाद कांग्रेस को गांधी परिवार से बाहरी अध्यक्ष मिलेगा। इससे पहले सीताराम केसरी गैर गांधी अध्यक्ष रहे थे।

अध्यक्ष पद के लिए 17 अक्टूबर को हुए चुनाव में 9900 वोटर्स में से 9500 ने वोट डाले थे। वोटिंग के बाद सभी बूथों से मतपेटियां AICC के दफ्तर पर मंगा ली गई थीं। बुधवार को सुबह 10 बजे से मतगणना शुरू होगी। सबसे पहले मतपत्रों को मिला लिया जाएगा, ताकि ये पता न चले कि किस उम्मीदवार को किस राज्य से कितने वोट मिले हैं। इसके बाद वोटों की छंटनी होगी, फिर 50-50 वोटों की गडि्डयां बनाकर उनकी काउंटिंग की जाएगी।

यह भी पढ़ें: सालों जेल से बाहर रहे बिल्किस बानो के रेपिस्ट, पैरोल के दौरान महिला के शीलभंग का आरोप

कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में मुकाबला मल्लिकार्जुन खड़गे और शशि थरूर के बीच है। दोनों तरफ से 5-5 एजेंट मतगणना की निगरानी करेंगे, जबकि दोनों पक्षों से 2 एजेंट रिजर्व में रखे जाएंगे। इनके अलावा दोनों नेताओं के समर्थक भी कांग्रेस मुख्यालय पहुंचेंगे।

अध्यक्ष पद के चुनाव में जीत के प्रबल दावेदार माने जा रहे मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा है कि अगर वह अध्यक्ष बनते हैं, तो उन्हें पार्टी के मामलों में गांधी परिवार की सलाह और सहयोग लेने में कोई झिझक नहीं होगी। क्योंकि, गांधी परिवार ने पार्टी के लिए बड़ा योगदान दिया है। खड़गे हों या थरूर जो भी अध्यक्ष बने उनके सामने एक बड़ी चुनौती आने वाले वक्त में हिमाचल, गुजरात के चुनाव हैं।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में 96 फीसदी वोटिंग, बैलेट के बक्से में कैद हुई खड़गे-थरूर की किस्मत

हालांकि, मुख्य फोकस 2024 के लोकसभा चुनाव पर रहेगी। बहरहाल अब कांग्रेस में लोकतांत्रिक तरीके से नए अध्यक्ष के चुनाव के बाद बीजेपी सहित सभी राष्ट्रीय और क्षेत्रीय दलों पर एक तरह से नैतिक दबाव ज़रूर आएगा। जिन्होंने अपने पाटी अध्यक्ष को चुनने के लिए कभी मतदान प्रणाली को नहीं अपनाया। बता दें कि हाल ही में बीजेपी, आरजेडी और समाजवादी पार्टी में बिना किसी वोटिंग के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद का चुनाव हुआ है।

कांग्रेस में अध्यक्ष पद के लिए आखिरी बार साल 1998 में वोटिंग हुई थी। तब सोनिया गांधी के सामने जितेंद्र प्रसाद थे। सोनिया गांधी को करीब 7,448 वोट मिले, जबकि जितेंद्र प्रसाद 94 वोटों पर ही सिमट गए। कांग्रेस पार्टी के 137 साल के इतिहास में छठी बार अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हुआ है। पार्टी महासचिव जयराम रमेश के मुताबिक, अध्यक्ष पद के लिए अब तक 1939, 1950, 1977, 1997 और 2000 में चुनाव हुए हैं। इस बार पूरे 22 वर्षों के बाद अध्यक्ष पद के लिए चुनाव हो रहा है।