कूचबिहार हिंसा: TMC का आरोप मतदान को प्रभावित करने के लिए मोदी-शाह ने रचा षड्यंत्र

पश्चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान सुरक्षाबलों के कथित गोलीबारी में 4 लोगों की मौत, मृतकों के घर कल जाएंगी सीएम ममता, टीएमसी बोली- बूथ लूटने के लिए बीजेपी के गुंडों ने हमारे समर्थकों को मारी गोली

Updated: Apr 10, 2021, 03:59 PM IST

कूचबिहार हिंसा: TMC का आरोप मतदान को प्रभावित करने के लिए मोदी-शाह ने रचा षड्यंत्र
Photo Courtesy: India Today

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में आज चौथे चरण के मतदान के दौरान कूचबिहार में हुई हिंसा में चार लोग मारे गए हैं। इस हिंसात्मक गतिविधि के बाद चुनाव आयोग ने सीतलकूच में बूथ संख्या 126 पर वोटिंग बंद करा दी है। वोटिंग के दौरान हुई इस हिंसा के बाद टीएमसी और बीजेपी आमने-सामने है। टीएमसी ने इसके लिए साफ तौर पर प्रधानमंत्री मोदी और गृहमंत्री अमित शाह को जिम्मेदार ठहराया है। टीएमसी का आरोप है कि मोदी-शाह ने मतदान प्रभावित करने के लिए सुनियोजित षड्यंत्र के तहत यह खून खराबा करवाई है।

मामले पर टीएमसी सुप्रीमो व बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा है। सीएम ममता बनर्जी ने कहा कि, 'सीआरपीएफ ने आज सीतलकूच में चार लोगों को गोली मारकर हत्या कर दी। सीआरपीएफ से हमारी कोई दुश्मनी नहीं है लेकिन यह घटना इस बात का सुबूत है कि गृहमंत्री अमित शाह के इशारे पर एक बड़ी साजिश चल रही है। वे इतने अमानवीय कैसे हो सकते हैं। लोगों को मारने के बाद वे आत्मरक्षा का दावा कर रहे हैं। उन्हें शर्म आनी चाहिए।' बताया जा रहा है कि ममता कल कूचबिहार जाएंगी और मृतकों के परिजनों से मिलेंगी।

इस घटना में बीजेपी की कथित संलिप्तता को लेकर टीएमसी ने चुनाव आयोग से शिकायत भी की है। टीएमसी सांसद सौगत राय ने इस बारे में मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, 'केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों ने क्यों फायरिंग की? उन्हें आम मतदाताओं पर गोलीबारी का यह दुस्साहस कहां से आया? यही मुख्य प्रश्न है। यह एक बड़ी साजिश का हिस्सा है और हमें नहीं लगता कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस साजिश से बाहर हैं। यह मतदाताओं को डराने का प्रयास है।'

यह भी पढ़ें: बंगाल चुनाव चौथे चरण के मतदान के दौरान हिंसा, गोलीबारी में पांच की मौत, BJP उम्मीदवार घायल

बीजेपी ने इस हिंसा के किए टीएमसी को दोषी ठहराया है। प्रधानमंत्री मोदी ने सिलीगुड़ी में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए इस हिंसा का जिक्र किया साथ ही उन्होंने टीएमसी पर कई आरोप भी लगाए। मोदी ने चुनाव आयोग से इस घटना के दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है। मोदी के कहा कि, 'बीजेपी के पक्ष में जनता का आपार समर्थन को देखकर दीदी और टीएमसी के गुंडे बौखला गए हैं। मैं टीएमसी के गुंडों और दीदी को कहना चाहता हूं कि बंगाल में उनकी मनमानी नहीं चलेगी।'

सीतलकूच में क्या कुछ हुआ इस पूरे घटनाक्रम को लेकर टीएमसी ने बताया है कि सुबह वोटिंग शुरू होने के बाद बीजेपी के लोग वहां बूथ कैप्चरिंग करने के लिए आए थे। टीएमसी का आरोप है कि सुरक्षाकर्मी भी बीजेपी का सहयोग कर रहे थे। लेकिन वहां मौजूद टीएमसी कार्यकर्ताओं ने इस विरोध किया। टीएमसी के विरोध के बाद बीजेपी के लोग हिंसा पर उतर गए और सुरक्षाबलों ने बूथ कैप्चरिंग का विरोध करने वालों को गोली मार दी।' 

यह भी पढ़ें: Covid-19 को लेकर सोनिया गांधी का कांग्रेस शासित राज्यों के CMs और मंत्रियों के साथ बैठक, दिया यह सलाह

इस घटनाक्रम के बाद चुनाव आयोग ने सीतलकूच में वोटिंग पर रोक लगा दी है। बता दें कि बंगाल में आज चौथे चरण के चुनाव के तहत 44 विधानसभा सीटों पर सुबह सात बजे से वोटिंग हो रही है। इस चरण में 373 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर लगी हुई है। चुनाव को शांतिपूर्ण तरीके से संपन्न कराने के किए निर्वाचन आयोग ने 44 क्षेत्रों के 15 हजार 940 मतदान केंद्रों पर करीब 800 सीएपीएफ की टुकड़ियों को तैनात किया है। बावजूद सुबह से ही कई जगहों पर हिंसा की खबरें आ रही है।