कर्नाटक के मेडिकल कॉलेज में कोरोना का कहर, दोनों डोज ले चुके 66 छात्र कोरोना पॉजिटिव

कर्नाटक के धारवाड़ के एसडीएम मेडिकल कॉलेज में पढ़ने वाले 300 छात्रों का हुआ था कोरोना टेस्ट, इनमें से 66 की रिपोर्ट पॉजिटिव, कॉलेज में मचा हड़कंप, फुली वैक्सीनेटेड थे सभी छात्र

Updated: Nov 25, 2021, 06:01 PM IST

कर्नाटक के मेडिकल कॉलेज में कोरोना का कहर, दोनों डोज ले चुके 66 छात्र कोरोना पॉजिटिव

बेंगलुरु। कर्नाटक के एक मेडिकल कॉलेज में कोरोना का भयंकर कहर देखने को मिला है। यहां एक साथ 66 छात्र कोरोना के चपेट में आ गए। हैरानी की बात ये है कि सभी छात्र कोरोना रोधी वैक्सीन के दोनों डोज ले चुके थे। कॉलेज में कोरोना विस्फोट की खबर से हड़कंप मच गया है।

जानकारी के मुताबिक कर्नाटक के धारवाड़ स्थित एसडीएम कॉलेज मेडिकल साइंस में कोरोना के कुछ केस मिले थे। इसके बाद एहतियात के तौर पर अधिकारियों ने यहां पढ़ने वाले 400 में से 300 छात्रों का कोरोना टेस्ट कराया। इनमें से 66 छात्र कोरोना वायरस के चपेट में थे। जिला स्वास्थ्य अधिकारी व उपयुक्त के आदेश पर कॉलेज के दो हॉस्टलों को सील कर दिया गया है, साथ ही छात्रों को कॉलेज आने से मना कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें: हर मोर्चे पर फेल रही है मोदी सरकार, BJP सांसद ने रिपोर्ट कार्ड जारी कर अपनी ही सरकार को घेरा

हैरानी की बात ये है कि संक्रमित छात्रों को वैक्सीन की दोनों डोज लग चुकी थी। ऐसे में अब लोग वैक्सीन की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठा रहे हैं। बहरहाल सभी संक्रमित छात्रों को आइसोलेट कर दिया गया है। धारवाड़ के उपायुक्त नितेश पाटिल ने बताया कि  हॉस्टल के अंदर ही सभी छात्रों की इलाज हो रही है। 

पाटिल ने कहा, 'कॉलेज में अध्ययनरत बाकी 100 छात्रों का भी जल्द ही COVID-19 टेस्ट किया जाएगा। उन्हें भी हमने क्वारेंटाइन कर दिया है। दो हॉस्टल सील कर दिए गए हैं। छात्रों को इलाज और भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। किसी को भी हॉस्टल से बाहर कदम रखने की इजाजत नहीं दी जाएगी। जिन छात्रों का अभी कोविड टेस्ट होना है उन्हें भी परिसर में क्वारेंटाइन किया गया है।'

यह भी पढ़ें: PM मोदी ने एशिया के सबसे बड़े हवाई अड्डे का किया शिलान्यास, नोएडा में 30 हजार करोड़ रुपए में बनेगा वर्ल्ड क्लास एयरपोर्ट

कॉलेज के प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि वे यह पता लगा रहे हैं कि छात्र कॉलेज परिसर से बाहर गए थे या नहीं। फिलहाल आशंका जताई जा रही है कि छात्रों के लिए कॉलेज में आयोजित एक कार्यक्रम के चलते ही संक्रमण फैला है। फिलहाल छात्रों के प्राइमरी और सेकंडरी कॉन्टेक्ट्स का पता लगाया जा रहा है। वायरस से संक्रमित कुछ छात्रों को खांसी और बुखार है जबकि अन्य में फिलहाल कोई लक्षण नहीं हैं।