पटना से दिल्ली के लिए ऑनबोर्ड फ्लाइट के इंजन में लगी आग, हवा में अटकी थी 185 यात्रियों की जान

टेकऑफ करते वक्त ही विमान में आग लग गई थी, लेकिन फ्लाइट रोकी नहीं जा सकी, पायलट ने तुरंत कंट्रोल रूम को सूचना दी और फिर हवा में चक्कर लगाते हुए फिर विमान की सेफ लैंडिग करा ली

Updated: Jun 19, 2022, 05:38 PM IST

पटना से दिल्ली के लिए ऑनबोर्ड फ्लाइट के इंजन में लगी आग, हवा में अटकी थी 185 यात्रियों की जान

पटना। पटना से दिल्ली जाने के लिए उड़े स्पाइसजेट के विमान के इंजन में आग लग गई. इस विमान में 185 यात्री सवार थे। हालांकि पायलट की सूझबूझ से प्लेन को तुरंत पटना एयरपोर्ट पर लैंड करा लिया गया, सभी यात्रियों की जान बच गई।

रिपोर्ट्स के मुताबिक टेकऑफ करते वक्त ही विमान में आग लग गई थी, लेकिन फ्लाइट रोकी नहीं जा सकती थी। इसलिए टेक ऑफ कराके फिर लैंड कराना पड़ा। फ्लाइट के सुरक्षित उतरने के बाद एक यात्री ने कहा कि वह विंडो सीट पर बैठे थे और उन्हें प्लेन में स्पार्क करता हुआ दिख रहा था।

बताया जा रहा है कि स्पाइसजेट के विमान SG 725 के उड़ान भरते वक्त ही इंजन में आग लग लग गई। पायलट को आग लगने की जानकारी तुरंत हो गई थी, लेकिन उसने धीरज और संयम के साथ कंट्रोल रूम को सूचना दी और फिर हवा में चक्कर लगाते हुए फिर विमान की सेफ लैंडिग करा ली। इस बीच कंट्रोल रूम को सूचना मिलने के बाद एयरपोर्ट पर प्लेन की आग बुझाने जैसी व्यवस्था तुरंत कर ली गई। आग लगने की सूचना और हवा में उड़ते प्लेन से धुआं निकलता देख पटना एयरपोर्ट पर अफरातफरी का आलम पसर गया था।

यह भी पढ़ें: अग्निवीरों को BJP कार्यालय में गार्ड की नौकरी देंगे, BJP महासचिव कैलाश विजयवर्गीय की टिप्पणी पर मचा बवाल

इस सूचना के बाद पटना के डीएम समेत तमाम आला अधिकारी पटना एयरपोर्ट पहुंचे। गनीमत रही की पायलट की सूझबूझ के कारण 185 यात्रियों की जान बच गई। पटना एयरपोर्ट के डायरेक्टर अंचल प्रकाश ने रनवे पर टेक ऑफ के समय ही लेफ्ट इंजन में पक्षी घुस गया। इसकी वजह चिंगारी निकलने लगी। इसे एटीसी ने देख लिया और पायलट को भी एहसास हो गया था। एटीसी तुरंत पायलट को लैडिंग के लिए कहा। अगर देर होती तो बड़ा हादसा हो सकता था।

स्पाइसजेट के प्रवक्ता ने कहा कि पटना-दिल्ली स्पाइसजेट फ्लाइट का कॉकपिट क्रू रोटेशन के दौरान टेक-ऑफ के बाद इंजन नंबर 1 पर संदिग्ध पक्षी से टकराया था। एहतियात के तौर पर फ्लाइट कैप्टन ने इंजन नंबर 1 को बंद कर दिया और पटना लौट गए। उड़ान के बाद के निरीक्षण से पता चलता है कि पक्षी की चपेट में आने से 3 पंखे क्षतिग्रस्त हो गए।