बिहार में खेला: इस्तीफा देकर राबड़ी आवास पहुंचे नीतीश कुमार, सामने आई बीजेपी की बौखलाहट

मंगलवार सुबह जेडीयू विधायकों की बैठक के बाद नीतीश कुमार ने बीजेपी के साथ गठबंधन तोड़ने का ऐलान किया था, इसके बाद वे राजभवन पहुंचे और राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया

Updated: Aug 09, 2022, 05:28 PM IST

बिहार में खेला: इस्तीफा देकर राबड़ी आवास पहुंचे नीतीश कुमार, सामने आई बीजेपी की बौखलाहट

पटना। बिहार में JDU और BJP के बीच गठबंधन 5 साल बाद फिर टूट गया है। CM नीतीश कुमार ने मंगलवार शाम 4 बजे राज्यपाल फागू चौहान को अपना इस्तीफा सौंप दिया। नीतीश कुमार ने तुरंत ही नई सरकार बनाने का दावा भी पेश कर दिया। उन्होंने राज्यपाल को 160 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी।

बिहार के सीएम पद से नीतीश कुमार के इस्‍तीफे के बाद बीजेपी की पहली प्रतिक्रिया सामने आई है।  पार्टी ने एक प्रेस कॉन्‍फ्रेस में कहा कि जनता ऐसा करने वालों को सबक सिखा देगी। नीतीश के इस्‍तीफे पर प्रतिक्रिया देते हुए बिहार बीजेपी प्रमुख संजय जायसवाल ने कहा, 'हमने एनडीए के अंतर्गत 2020 का विधानसभा चुनाव साथ लड़ा था। जनादेश जेडीयू और बीजेपी के लिए था। हमने ज्‍यादा सीटें जीती थीं लेकिन नीतीश कुमार को सीएम बनाया। आज जो कुछ हुआ है, वह बिहार के लोगों और बीजेपी के साथ धोखा है।'

यह भी पढ़ें: नीतीश की गुगली में फंसी BJP, बिहार में टूटा गठबंधन, लालू की बेटी बोली- आ रहे हैं लालटेनधारी

राजभवन में ही नीतीश ने भाजपा से गठबंधन टूटने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि पार्टी के विधायकों और सांसदों ने एक स्वर में NDA से गठबंधन तोड़ने की बात कही है। इसके बाद नीतीश सीधे राबड़ी देवी के घर पहुंचे, जहां तेजस्वी यादव से उनकी बंद कमरे में मीटिंग हुई। यहां तेजस्वी यादव उन्हें रिसीव करने बाहर तक आए थे। बताया जा रहा है कि राबड़ी आवास पर राजद, कांग्रेस और माले के विधायक मौजूद हैं।

RJD विधायक दल के नेता तेजस्वी यादव ने 115 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी नीतीश कुमार को सौंपी है। इसमें नीतीश की अगुआई में सरकार बनाने की बात कही गई है। कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान ने कहा है कि नीतीश कुमार ही महागठबंधन के मुख्यमंत्री होंगे। सब कुछ तय हो गया है। सूत्रों के मुताबिक तेजस्वी यादव डिप्टी CM होंगे। जबकि कांग्रेस को स्पीकर की कुर्सी मिल सकती है।

यह भी पढ़ें: अगस्त क्रांति मैदान में भारत छोड़ो आंदोलन दिवस का आयोजन, सोनिया गांधी का पत्र लेकर पहुंचे दिग्विजय सिंह

दरअसल, राजनीति के माहिर खिलाड़ी नीतीश कुमार की गुगली में इस बार बीजेपी बुरी तरह फंस गई। सीएम नीतीश पर बीजेपी नेताओं द्वारा लगातार निशाना साधा जा रहा था। नीतीश कुमार इससे बेहद खफा थे। उनकी खीझ कई बार खुलकर सामने भी आई। लेकिन सीएम नीतीश के गुस्से को बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व ने हल्के में लिया। जब बिहार में गठबंधन टूटने की बात मीडिया में सामने आई तो गृहमंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा उन्हें मनाने में जुट गए। हालांकि, नीतीश कुमार ने फैसला ले लिया था।